Gazal

बेक़रार आदमी

हर  तरफ  हर  जगह  बेशुमार  आदमी
फिर  भी  तन्हायियो  का  शिकार  आदमी

सुबह  से  शाम  तक  बोझ  ढोता  हुआ
अपनी  ही  लाश  का  खुद  मज़ार  आदमी

हर  तरफ  भागते  दौड़ते  रास्ते…
हर  तरफ  आदमी  का  शिकार  आदमी

रोज़  जीता  हुआ  रोज़  मरता  हुआ
हर  नए  दिन, नया इंतज़ार  आदमी

ज़िन्दगी  का  मुक़द्दर  सफ़र-दर-सफ़र
आखिरी  साँस  तक  बेक़रार  आदमी

                             – निदा  फाजली